मुद्रा और तानाशाही


मैं
और मेरे आईने
वे सब
केवल आईने

मैं अपने आप को देखता हूँ उनमें
वे मैं ही तो हैं
वे मुझमें

जो नहीं
पता नहीं

कोई नहीं

मैं
और
कुछ नहीं