साथी त्रेपन सिंह चौहान के लिए* तुम पहाड़ होकठोर होमगर स्रोतों की शीतलतातुम्हारी धमनियों में बहतीतुम्हारी हजार आंखों […]