मोमबत्तियाँ


कॉन्सटेंटाइन पेट्रो कवाफी

आने वाले दिन हमारे आगे खड़े हैं
जैसे छोटी-छोटी जलती मोमबत्तियों की कतार –
सुनहरी, गर्म, और झूमती छोटी बत्तियाँ।

दिन जो बीत गए हमारे पीछे खड़े हैं,
अब बुझ गईं मोमबत्तियों की उदास पंक्ति;
जो सबसे पास हैं वे अब भी छोड़ती हैं धुआँ,
ठंडी मोमबत्तियाँ, पिघली हुईं, बिगड़े रूप जिनके।

मैं उनको देखना नहीं चाहता; वे मुझे उदास करती हैं,
और मैं उदास होता हूँ, पहले की उनकी रोशनी याद कर।
मैं अपने सामने देखता हूँ, अपनी जलती मोमबत्तियों को।

मैं मुड़ना नहीं चाहता, कहीं देख घबरा न जाऊँ,
कितनी जल्दी बढ़ रही है काली रेखा की लंबाई,
कितनी जल्दी बढ़ रही है बुझी हुईं मोमबत्तियों की गिनती।