उत्साह


यानिस रित्सोस

जिस तरह चीज़े धीरे-धीरे खाली हो गयी हैं,
उसके पास करने को कुछ नहीं है। वह अकेला बैठता है,
अपने हाथों को देखता, नाख़ून – अजनबी लगते हैं –
बारबार अपनी ठुड्डी छूता है, कोई और ठुड्डी
लगती है, बिलकुल ही अजनबी,
इतनी नितांत और स्वभावतः अजनबी कि उसे खुद
इसके नएपन में मजा आने लगा है।

परिवर्तन: यानिस रित्सोस


यानिस रित्सोस (1909-1990) यूनान के महान क्रांतिकारी कवि थे।

जिसको तुम शांतिप्रियता या अनुशासन, दयालुता या उदासीनता कहते हो,
जिसको तुम दाँत दबाए बंद मुँह बताते हो,
जो मुँह की प्यारी चुप्पी दिखती है, दबे दाँतों को छुपाती,
वह उपयोगी हथौड़े के नीचे धातु की केवल धैर्यपूर्ण सहनशीलता है,
भयानक हथौड़े के नीचे – तुम्हारी चेतना है
कि तुम निराकारता से आकार की ओर बढ़ रहे हो।

मिड्ल क्लास ब्लूज़ (मध्यम वर्ग का तराना)


जर्मन कवि हांस मागनुस एंजेंसबेर्गर की कविता “Middle Class Blues” का अनुवाद

हम शिकायत नहीं कर सकते।
हम काम से नहीं निकाले गए हैं।
हम तृप्त हैं।
हम खाते हैं।

घास उगती है,
सामाजिक उत्पाद,
नाख़ून,
अतीत।

सडकें खाली हैं।
सौदे हो चुके हैं।
सायरन शांत हैं।
ये सब अतीत हो जाएंगे।

मृतकों ने अपना वसीयतनामा बना लिया।
बारिश मुसलाधार हो चली।
युद्ध की घोषणा अभी नहीं हुई।
इसकी कोई जल्दी नहीं है।

हम घास खाते हैं।
हम सामाजिक उत्पाद खाते हैं।
हम नाख़ून खाते हैं।
हम अतीत खाते हैं।

हमें छुपाने को कुछ भी नहीं है।
हमें कोई कमी नहीं है ।
हमें कहने को कुछ नहीं है।
हमारे पास है।

घड़ी तैयार है।
बिल चुकता हो चुके हैं।
बर्तन धुल चुके हैं ।
अंतिम बस रवाना हो रही है।

वो खाली है।

हम शिकायत नहीं कर सकते।

हमें किस चीज़ का इंतजार है?

छायाओं की दुनिया


जर्मन कवि हंस मागनुस एंजेंसबेर्गर की कविता “Schattenreich” का अनुवाद

यहाँ अब भी मुझे एक जगह दिखती है,
एक खाली जगह,
यहाँ छाया में ।

यह छाया,
बिकाऊ नहीं है ।

समुन्दर भी
शायद छाया बनाता है,
समय भी ।

छायाओं की लड़ाइयाँ
खेल हैं:
कोई छाया
किसी दूसरे की रोशनी में नहीं रहती।

जो छाया में जीते हैं,
उन्हें मारना मुश्किल है।

कुछ क्षण के लिए
मैं अपनी छाया से बाहर निकलता हूँ,
कुछ क्षण के लिए।

जो रोशनी देखना चाहते हैं
उसको उसके रूप में
उन्हें आश्रय लेना होगा
छाया का।

छाया
सूर्य से भी तेज़:
आज़ादी की ठंडी छाया।

छाया में पूरी तरह
मेरी छाया गायब हो जाती है।

१०

छाया में
अभी भी जगह है।

एहतियात: यानिस रित्सोस


यानिस रित्सोस (1909-1990) यूनान के महान क्रांतिकारी कवि थे।

शायद तुम्हें अब भी अपनी आवाज़ को काबू में रखने की ज़रूरत है; –
कल, परसों, किसी समय,
जब भी झंडों के नीचे और लोग चिल्ला रहे होंगे,
तुम्हें भी चिल्लाना होगा,
मगर ध्यान रहे अपने टोप से अपनी आँखों को ढँक लेना,
अच्छी तरह,
ताकि उन्हें न दिखे कि तुम्हारी आँखें कहाँ देखती हैं,
तब भी जबकि तुम्हें मालूम है कि चिल्लाने वाले
कहीं देखते नहीं।

अंग्रेजी से अनुदित

ब्रेष्ट, समाधि लेख 1919 (Brecht’s “Epitaph 1919”)


सुर्ख गुलाब भी अब तो गायब हुआ
कहाँ है गिरा वह दिखता नहीं
गरीबों को उसने जीना सिखाया
अमीरों ने उसको तभी तो मिटाया
(1929)

वैकल्पिक अनुवाद:

सुर्ख रोज़ा भी अब तो गायब हुई
कहाँ है गिरी वह दिखती नहीं
गरीबों को उसने जीना सिखाया
अमीरों ने उसको तभी तो मिटाया