बहुत देर


बहुत देर बहुत देर बहुत देर बाद
रोशनी पहुँची मगर सितारा न रहा
दूर दूर बहुत दूर पहुंच मुड़ना क्या
सैलाब ही है कोई किनारा न रहा