तुम्हारी बाँहें


तुम जहाँ भी देखते हो पकड़ लेते हो
अपनी बाँहों में जकड़ लेते हो
नज़र चुराएँ तो कैसे तुम्हारी नज़रों से
हर तरफ फैलते तुम्हारे पहरों से